Posted in Experience, Poetry

Miracle

I was oiling my lamp in the midnight,
and my mind was exploring the depth of my heart-
a little piece of fiction was born
as the words flowed through me.

Letter after letter, and pages unfolded,
nights and days followed, an audacious pen
staining,scratching and scribbling the vast expanse
created this immortal existence.

A few stains from my past,
a tinge of emotion, a lump of
imagination and lots of love;
it brought its first prints in the world.

There among thousands on that shelf,
stands firmly my own little miracle.
Unique, untamed and amateur,
its freshly inked papers embracing each other.

ज़हर ही सही हम कर लैगे कूबूल हस कर,

हमें मौत भेजी हैं हम गले लगा लेंगे कस कर।।

ज़हर

Posted in Uncategorized

मंज़िल

मंज़िलो का क्या है वह तोह अब भी है वही, आज चलो रास्तो से ही इश्क़ किया जाए जो छोड़ते नहीं कभी….

Posted in Quotes

स्याही

उड़नें  लगी हूँ मैं स्याही के दम पर,
अक्षरों की सैर कर जाती हूँ कही |
लौट ना आऊँ ,खत्म ना हो मेरा सफर,
फिर याद आता हैं, अपने बस्ते हैं वहीं॥

-आकांक्षा 

Posted in Photos, Quotes

समुद्र

img_20160814_183430

समुद्र मे शायद लहरों की कमी थी, इसलिए तुफान मेरे दिल मे आया है। तबाही शायद वहाँ कम होती, इसलिए सब कुछ बरबाद करने यहाँ आया है।
-आकांक्षा